Free sex chat sites with females from chennai


29-Oct-2017 23:15

Free sex chat sites with females from chennai-82

completely dating site russia

Aap ka aur devar ji ka pyar hi mujhe zinda rehne ke liye kafi hai.” Maa achanak muskura padi.” Haan main to bhul hi gayi thee, tum Raju ko kion nahin pata leti. Tumhari choot bhi thandi ho sakti hai aur bacha bhi chudayi seekh lega. Jaise jijja ka sali par hak hota hai, devar par bhabi ka hak hota hai. “Kehte huye maa ne bhabi ko apni bahon mein bhar ke yar se choom liya. Bhabi ki makhan jaisi chikni janghen aur bhare chutad bahut mast lagte thay. Usske jism se garmi nikal kar meri janghon par mehsoos ho rahi thee.

Bhagwan ki kirpa se Raju jawan ho chuka hai, tum uss par apne husan ka jadu chala lo aur ghar emin hi chudayi leela shuru kar lo. Usski chuchian uthak baitrhak kar rahi thee aur mere pajame mein naag devta fir sir utha rahe thay. Maa thodi der mein apne kamre mein chali gayi aur Bhabi mere kamre mein dakhil hui. Tabhi Bhabi ne mera sir pakad kar apne seene par rakh diya aur mere balon mein unglian chalane lagi.” To Raju, mujhe bata ki tum padhte kab ho.

Mujhe malunm hai ke ek jawan aurat ke jissm mein kaisi aag lagati hai jab mard na ho. Tujhe koi na koi bandobast karna chahiye apni jawan choot ki garmi nikalne ka.”Bhabi chup chap sunti rahi aur fir boli,” Maaji aap theek kehti hain, par aap to janti hain ke mere mayake mein koi nahin hai aur foir mujh se shadi kaun karega jab mera pati abhi zinda hai.

Kissi budhe ke gale padne se to aapke saath rehna achha hai. Jab vo chalti thee to saaf pata chalta tha ki ussne apni Tshirt aur nikker ke neechey kuchh nahin pehna hua tha.

गया एक पुलिस कांस्टेबल के साथ, मेरे जीजा रिज़र्व पुलिस में थे तो उनको आउट स्टेशन जाना पड़ता था। और मेरे दीदी और जीजाजी के सम्बन्ध उतना क्लोज नहीं था क्योंकि उनकी उमर २५ थी जब वो दीदी को शादी किये थे। मेरे दीदी मेरे घर के बाजु में ही घर लिये थे। पता नहीं कब मेरे दीदी और मेरे भैया के साथ अफैर हो गया।मुझे पहले पहले कुछ ऐसा लगता था कि मेरे भैया और दीदी के बीच में कुछ है। मैं उन दोनो के उपर शक करता था। एक बार दोपहर में मैने कोलेज से आया तू मेरे दीदी और मेरे भैया रूम में बैठ के जोर जोर से बात कर रहे थे तो में रूम का दरवाज़ा खोलके अंदर चला गया देखा तो दीदी ने उसके बच्चे को दूध पिला रही है वो भी पूरा ब्लाउज़ खोलके और भैया आराम से बैठ के देख रहा है मैने सोचा कि बच्चा को दूध पिला रही है तो उसमे शक करने कि बात नहीं है। फिर भी मेरे मन मे शांति नहीं था सिर्फ़ उन दोनो का है बात दिमाग में हर वक्त चलता था।कुछ महीने के बाद रात मे मैं धीरे से घर आया रूम में दीदी, भैया और दीदी का बच्चा सब सो रहे थे तो मैने डिनर करने के लिये किचन में गया और तभी पावर कट हो गया। तो मैने खाना लगा के हाल में आया तो रूम के अंदर से कुछ आवाज़ आ रही थी (भैया का रूम तो हाल में अटैच था। ) थ मेरे को शक हो गया कि रूम में शायद हो दोना कुछ कर रहे हैं और मैने धीरे से रूम के दरवाज़ा पर कान रख के सुना तो पया कि मेरे भैया बड़ी जोर से सांस ले रहा था और दीदी भी कुछ अजीब से आवाज़ कर रही थी। कुछ देर बाद में एक अजीब स्मेल रूम से आने लगा और फच फच कर के बहुत जोर से सांस ले के दोनो आवाज़ मिलकर रूम से आ रहा था मेरे को वो स्मेल और आवाज सुनकर मेरे लौड़ा खड़ा हो गया मैने बहुत जल्दी में खना खा लिया और बड़ी हिम्मत से रूम का दरवाज़ा खोल के अंदर गया तो खाट के उपर बच्चे को सुला के भैया और दीदी नीचे ज़मीन पर एक के बगल में सो रहे थे। उस रात से मैं उन दोनो का पीछा करना शुरु किया तो मुझे वो दोनो रंगे हाथ पकड़े गयेवो रात मेरे को पता कि आज भैया और दीदी मस्त चोदने वाले है क्योंकि मेरे घर में उस दिन कोई बी नहीं थे सिर्फ़ मैं, भैया, दीदी और उस का बच्चा को छोड़के। तो उस रात मैने बड़ी जल्दी सोने का नाटक किया और रात ९ बजे तक बेड पर चला गया। और १० बजे को उठा और रूम की खिड़की के पास जाके बैठ गया। रूम की खिड़की को मैने पहले ही थोड़ा सा खोल के रखा था और परदा को पूरा छोड़ दिया था। जैसे मैं खिड़की के पास तो वो दोनो ऐसे ही कुछ बातो में खोये हुए थे। अचानक भैया ने दीदी को समूच किया तो मेरा हार्ट बीट बहुत तेज़ वो गोया। मेरे दिल में थोड़ा सा डर हो रहा था। भैया समूच करने के बाद दीदी को गाली दिया कि वो दूध पिये थी। भैया को दूध से नफ़रत थी। वो दूध या दूध के स्मैल से नफ़रत करता था। दीदी ने तुरंत बाथरूम में जाके ब्रुश करके आयी।फिर ५-१० मिनट बाथ किया और फिर से भैया दीदी को समूच किया और अपने हाथ को उस के बूब्स पर रख के जोर से दबाना शुरु किया। दीदी भी भैया का लिप्स और जीभ को अपने मुंह में लेके बड़ि मजेदार से किस कर रही थी। भैया ने दीदी की नाइटी को उपर उठाया और उसे निकाल के ज़मीन पर फेंक दी। दीदी अकसर घर में ब्रा नहीं पहनती थी। और वो नंगी हो गयी। भगवान की कसम दीदी की जांघें तो कमाल की चीज़े है। साली के पैर एक दम बनाना के पेड़ के जैसा है। इतनी बड़ी बड़ी बूब्स थी इसकी कि भैया का पूरा फ़से उस में छुप जा रहा था कि वो बूब्स को चूस रहा था। भैया ने दीदी के दोनो बूब्स को ऐसे चूस रहा था कि कोई आदमी बहुत सालो तक प्यसा हो और उसे पानी मिल गया हो। थोड़ी देर बाद में भैया ने दीदी के दोनो पैरों को फैला दिया और दीदी की चूत दिखने लगी उसके पूरा प्युबिक हेयर से छुपा हुआ था। भैया ने दीदी के चूत को उंगली से फ़ैला दिया और अपने मुंह को चूत में डालकर चूसने लग गया। कुछ ५ मिनट तक वो दीदी के चूत को चूस रहा था तो दीदी ने पूरे मूड में आ चुकी थी और वो बोल ने लगी कि चूस राजा मेरे चूत को और चूस खा जा मेरे चूत को।आज तो बहुत खुजली हो रही है मेरी चूत मैं चूसले, पूरा पानी मेरे चूत में से अह्ह अह्ह अह्ह आअ…अ…।।अ।अहह कर रही थी। ५ मिनट के बाद भैया ने दीदी कि चूत में से निकाल कर दीदी को उसके होंथों पे किस्स करके दीदी का लिप्स को चूस ने लगा। दीदी ने भैया का टी शर्ट निकाला और भैया को गर्दन के पास किस करने लगी और गर्दन से लेकर ऐसे ही उसके छाती के पास उसके छाती को किस करके उसके शोर्ट्स को निकाल दिया और भैया का ८” तगड़ा मोटा लौड़ा पूरे तरह से खड़ा हो गया था। दीदी ने भैया का लौड़ा पकड़ लिया और हाथ से शेक किया और उसके उपर का स्किन को पीछे कर के भैया का लंड को मुंह में ले के चूसना शुरु कर दिया। भैया बोले चूसले जान मेरे लौड़े को चूसले आहाह अह्हह्हह्ह अह्हह्हह्हह बड़ा मज़ा आ रहा आता है जब तु मेरे लौड़े चूसती है कर के बोलने लगा५-१० मिनट के बाद भैया ने दीदी का सिर पकड़ के उसके माउथ में धक्का देना शुरु किया और दीदी को उपर उठके उस खाट के उपर में सुला के अपने लंड को हाथ में लेके सम्भालने लगा और दीदी के चूत के उपर रख के एक ही झटके में अपने पूरे लंड को अंदर डाल दिया। दीदी ने एक जोर सी आवाज़ की और बोली मादरचोद धीरे से कर में दीदी के मुंह से वो बात सुनके हैरान हो गया और पता चला कि भैया और दीदी दोनो गंदी तरह से गाली दे के चोदते हैं। और भैया ने दीदीके चूत में अपने लंड को अंदर और बाहर कर रहा था और दीदी धीरे धीरे सिसकार कर रही थी अह्हहह्ह अह्ह रा………ज……अह्हह्ह……अझह्हह्हह्हह्हह कर के सिसकार कर रही थी। ५-१० मिनट के बाद भैया ने अपने स्पीड ज्यादा करने लगा और बोलने लगा कि तेरी मां को चोदु तेरी बहन को चोदु तेरी चूत फ़ाड़ के रख दूंगा साली रंडी चल चोद जोर से चोद हरामज़ादी रंडी साली चोद मुझे चोद कर के गाली देने शुरु किया बहुत जोर जोर से चोदने लगा। इतना जोर से चोद रहा था कि उन दोनो का चोदने के साउंड इतनी जोर से आ रहा था और दीदी कि चूत में से कुछ व्हाइट कलर में तरल आने लगा और पूरा रूम में फ़चाक फचाक फचाक करके आवाजें आने लगा। और दीदी बोलने लगी कि मादर चोद और जोश से चोद मुझे मेरी चूत पर दे राजाआआआ मेरी चूत फाड़ दे बहुत अंदर तक चला गया है तेरा लौड़ा चोद रे साले मादर चोद मुझे और जोसे से चोद मेरी मां बहन को भी चोद ले राजा तेरी लौड़ा को सारी दुनिया की चूत कुर्बानी है राजा चोद आअहहा आआआआआअह्हह्हह्हह्हह्हह अह्हह्हह्हह्हह्हह स्सस्सस्सस्स स्सस्सस्सस्सस्सस्सहूऊऊऊऊऊऊऊओदूऊऊऊऊ अह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्हह कर के चिल्लाने लगी और मेरे भैया ने भी गंदी गंदी गालियो से गाली दे के चोद रहा थामां कसम भैया ने ठीक ४५ मिनट तक लगातार दीदी के चूत को चोद के फाड़ दिया और उसने पूरा पानी दीदी के चूत में निकाल दिया और दीदी के चूत से अपने लंड को निकाल दिया और साइड में सो गया यहां दीदी ऐसी सो पड़ी थी जैसे किसी को अपना चुदा हुआ चूत दिखा रही है और दीदी के चूत को बड़ा हो गया था और उसमे से भैया का पानी नीचे गिर थे हुए दिख रहा था। १० मिनट तक दोनो शांत पड़ गये थे। १० मिनट के बाद दीदी बोली राजा फिर से करना दूसरे राउंड तो भैया बोला तेरी मां को चोदू साली तेरी प्यास भी जाती नहीं है जा के लकड़ी ले के आ के तेरी चूत में रख के सो जा साली रंडी हरामी कर के बोल के सो गया और दीदी ने बोला ठीक है तो सुबह ५ बजे को उठी हूं और सुबह मुझे खूब चोद लेना अभी सो जा कर के बोली और सो गयी।मैने उसके बाद बाथरूम में गया और लगभग ४५ मिनट तक जो देखा था वो पूरा जोश को सिर्फ़ २ मिनट के हाथ मारने पे पूरे के पूरा पानी निकाल दिया।ठीक महीने बाद मेरे भैया की शादी हो गयी और हमारे घर के उपर और २ रूम बना दिया ताकि भैया को शादी के बाद परायिवेसी दिया जाये और कोई मेहमान आये तो भी दूसरे रूम का इस्तेमाल होगा कर के सोच के २ रूम बना दिया।भैया की शादी होने के महीने दो महीने के बाद एक रात ऐसा हुआ कि मेरे ज़िन्दगी का आसमान खुल गया।हर समय के तरह दीदी जब जीजा नहीं वो तो हमारे घर में ही रहती थी।वो हमारे घर में सोती थी।उस रात वो रूम में सोने को आई। जैसे भैया उपर रूम में चला गया। में खाट के उपर सो रहा था और दीदी ज़मीन पर बेड लगा के सो गयी। मेरे को नींद नहीं आ रही थी क्योंकि मेरे को रोज़ हाथ मारने का प्रक्टिस है और एक बार अपना पानी गिराने के बाद ही मेरे को नींद आती थी। लेकिन उस रात दीदी थी तो मैन ऐसे ही सोने की कोशिशअ रहा था। कुछ १२ बजे के आस पास तक मेरे को नींद नहीं आयी थी और मैने दीदी को घूर घूर के देख रहा था जैसे वो अपना हाथ और पैर हिला रही थी तो उसका नाइटी उपर वो हट रहा था, तो मैं कोशिश कर रहा था कि उसका पैरों को उपर तक देखने की। ऐसे ही देख रहा था तो दीदी ने अचानक बेड शीट को अपने पैर पर लगा के अपनी चूत में उंगली करनी शुरु कर दिये और उनके प्युबिक हेयर में उनका उंगली जैसे मूव वो रहा था आवाज आने लगा। १०-१५ मिनट तक दीदी उंगली कर रही थी तो मैन खाट के उपर बैठ गया और सीधे दीदी को घूरने लगा।जैसे दीदी उंगली करके आंख खोली तो मेरे को देख के हैरान हो गयी और पूछी ऐसे क्यों बैठा है। और मैने कहा दीदी मैने देखा कि आप उंगली करते हुये।दीदी बोली क्या बोलता है तुझे शरम नहीं आती है ऐसे बात करने में।मैने बोला दीदी मेरे को पता है कि तुझे भैया रोज़ चोदता था और अब उस का शादी हो गयी तो तुम उंगली करले रही हो।दीदी बोली क्या उल्लु के जैसा बात करता है तेरे को क्या पता, कैसे पता मलूम है तू क्या कह रहा है। मैने बोला मैने सब कुछ देखा है। दीदी थोड़ा सा डरा हुई थी मैने बोला दीदी डरो मत मैं किसी को नहीं बोलने वाला हूं।बस मेरे को एक बार तेरे को चोदना हैदीदी बोली हरामज़ादे मेरे को चोदेगा?

Main apne ghar mein apni maa Sujata Devi aur bhabi Neeru ke saath rehta hoon.

Free sex chat sites with females from chennai-67

desktop wall paper dating

Free sex chat sites with females from chennai-75

Sex chat s

Neeru bhabi ka kamra mere kamre ke bagal mein hi tha aur maa ka kamra groundfloor par tha.Mujhe achhi lagi hai.” Bhabi ne kitab ko uthate huye kaha,” Agar tujhe Mast Ram itna hi pasand hai to chalo vo hi padhate hain. Tum devar ke dialogue bolna aur main bhabi ka role ada karti hoon.”Main ab khul chuka tha.” Bhabi bas baten hi karege ya kuchh aur bhi?Kia hum role play nahin kar sakte, jaise novel mein hai?Maa Sujata 43 saal ki hai aur school mein teacher hai. Bhabi ka kad 5 feet 5 inch hai aur rang sanwla, sharir bhara hua. Main Bhabi ke saath wakt bitana chahta tha kion ki vo mujhe bahut sexy lagti thee.

Meri maa bahut sundar aur sexy hai aur main apni maa ke school mein hi padhta hoon. Ek din mere dost ne mujhe ek Mast Ram ki novel dee jissme bhabi devar ki chudayi likhi gayi thee.Mere haath bhabi ki janghon ko sparsh kar gaye aur mujhe laga jaise koi bijali ka current laga gaya ho.” To kab se padhayi shuru ki jaye, beta?